नर सेवा ही नारायण सेवा हैं – मंत्री अमरजीत भगत

बतौली (फटाफट न्यूज़) – प्रशांत खेमरिया

Surguja News: छत्तीसगढ़ के खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत इन दिनों अपने गृह जिले के दौरे पर हैं और इलाक़े के विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल हो रहे हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को बतौली क्षेत्र के विशेष कार्यक्रम के दौरान खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने नेत्रहीन विद्यालय कुनकुरी में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि, नर सेवा ही नारायण सेवा हैं। इसलिए मानव सेवा हेतु अपनी चेतना लगातार विकसित करते रहें। इससे भगवान भी मिल जाएंगे और मनुष्य समुदाय की सेवा हो सकेगी।

दरअसल, बतौली क्षेत्र के कुनकुरी में जीवन ज्योति नेत्रहीन विद्यालय के परिसर में कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन जिला सरगुजा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में खाद्य मंत्री अमरजीत भगत को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। इस कार्यक्रम में फेडरेशन ने नेत्रहीन बच्चों को गर्म वस्त्रों सहित अन्य सामग्रियां भेंट स्वरूप दी हैं। कार्यक्रम में जिला और ब्लॉक स्तर के समस्त कांग्रेस पदाधिकारी मौजूद थे। इनके अलावा प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित थे। कर्मचरी-अधिकारी फेडरेशन के संभागीय अध्यक्ष कौशलेंद्र पांडे ने अपने संबोधन में कहा कि आज भी नेत्रहीन विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों को शासन द्वारा मात्र 20 रूपए की अनुदान राशि दी जाती हैं। इससे बच्चों के भोजन के अलावा अन्य व्यस्थाएं दूर करने में परेशानी आती हैं।इसलिए खाद्य मंत्री अमरजीत भगत जरूर अनुदान राशि बढ़ाने की पहल करें। इतना ही नहीं आगे इसके उन्होंने कहा कि नियुक्त शिक्षक और अन्य कर्मचारीगणों को आज भी कलेक्टर दर पर भुगतान किया जाता हैं। जिसके संबंध में भी विचार किया जाना जरुरी हैं। कार्यक्रम को बीज प्रमाणीकरण संस्था के सदस्य अरविंद गुप्ता के अलावा ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप गुप्ता ने भी संबोधित किया। प्रदीप गुप्ता ने बताया कि संस्था की विशेष मांग पर खाद्य मंत्री ने बाउंड्री वाल की मांग पूरी की है। इसके अलावा समय-समय पर अन्य सुविधाओं के संबंध में खाद्य मंत्री ने विशेष पहल की हैं।

कार्यक्रम के अंत में खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें काफी पहले यहां आना चाहिए था। कैबिनेट मंत्री होने के बाद से उनकी उपस्थिति इस संस्थान में नहीं हो पाई हैं, लेकिन आज उन्हें लग रहा हैं कि उन्हें इससे पहले भी आना चाहिए था। उन्होंने कहा कि अबकी बार जब भी मैं आऊंगा राष्ट्रीय राजमार्ग से लेकर संस्थान तक की पक्की सड़क अवश्य बन चुकी होगी। इसके अलावा एक उच्च स्तरीय किचन शेड भी संस्थान के लिए बनाया जाएगा। उन्होंने स्वेच्छानुदान राशि से शिक्षक, शिक्षिकाओं सहित कुल 13 स्टाफ को 5-5 हजार रूपए देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि बच्चो के अनुदान राशि और अन्य मांगों के संबंध में शासन स्तर पर ही कुछ संभव हो सकेगा। जिसके संबंध में मैं आवेदन अपनी अनुशंसा के साथ, शासन तक और जिम्मेदार विभाग तक अवश्य पहुंचा दूंगा।

इस दौरान कर्मचारी, अधिकारी फेडरेशन की ओर से कौशलेंद्र पांडे संभागीय अध्यक्ष, कमलेश सोनी जिला अध्यक्ष मौजुद रहे। इनके अलावा अजीत सिंह, रितेश पांडे, अनिल सिंह, मनीष मेहता, राजेश बराथे, सुनील तिवारी, आर पी बदगोत्या, जवाहर गुप्ता, कांग्रेस पदाधिकारी प्रदीप गुप्ता, अरविंद गुप्ता, निलय त्रिपाठी, सुरेश चंद गुप्ता, राजकुमार सोनी, ईश्वर सोनी, राजकुमारी पाल, सूरज गुप्ता, राजेश अग्रवाल, विकास खंड शिक्षा अधिकारी शरद चंद मेषपाल, सीईओ बतौली विजय नारायण श्रीवास्तव, प्राचार्य सी आर मिरी और अन्य आमजन मौजूद थे।

छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत इसके बाद बतौली मंगल भवन में आयोजित कीर्तन मंडलियों के प्रतियोगिता के अलावा आयुर्वेदिक अस्पताल बतौली में आयोजित स्वास्थ्य शिविर में शामिल हुए।