आंगनबाड़ियों एवं विद्यालयों को किया गया मुनगा के पौधे का वितरण… सुपोषित और हरित छत्तीसगढ़ बनाने की दिशा में प्रयास

बलरामपुर। मुनगा के पौधे में औषधीय गुणों के साथ पोषक तत्वों की प्रचुरता है। मुनगा के इन्हीं गुणों के कारण कुपोषण मुक्ति के लिए इसका उपयोग किया जा रहा है। वन विभाग बलरामपुर द्वारा बड़ी मात्रा में मुनगा के पौध तैयार कर वितरित किये जा रहें हैं। इसी क्रम में विशेष अभियान के तहत् विकासखण्ड वाड्रफनगर के 67 ग्राम पंचायतो में आंगनबाड़ी, प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों में लगाये जाने हेतु मुनगा के 05-05 पौधे का वितरण किया गया है।

सुपोषित एवं हरित छत्तीसगढ़ बनाने की दिशा में यह प्रयास सराहनीय है। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत वाड्रफनगर वेद प्रकाश पाण्डेय ने बताया कि मुनगा के पत्तियों में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में हैं तथा इसके सेवन से जरूरी पोषक तत्वों की आपूर्ति होती है, जिससे कुपोषण दर में कमी आयेगी। उन्होंने बताया कि वन विभाग के विभिन्न नर्सरियों में मनरेगा के अन्तर्गत मुनगा के पौध तैयार कराये गये हैं। जिनका वितरण आंगनबाड़ियों तथा विद्यालयों को किया गया है। वाड्रफनगर के शेष ग्राम पंचायतों में भी आगामाी दिनों में मुनगा के पौधों का वितरण किया जाएगा।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमारे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें-

Facebook, TwitterWhatsAppTelegramGoogle News