Wednesday, October 17, 2018
Home लाइफस्टाइल

लाइफस्टाइल

On each category you can set a Category template style, a Top post style (grids) and a module type for article listing. Also each top post style (grids) have 5 different look style. You can mix them to create a beautiful and unique category page.

भोजपुर तथा भीमबेटका.. महान सम्राट राजा भोज ने की थी स्थापना

भोजपुर तथा भीमबेटका भोजपुर : जनश्रुतियों और किंबदन्तियों के रूप में अमरता प्राप्त धार के महान सम्राट राजा भोज ने इसकी स्थापना की थी। यहां का...

ओरछा.. जहांगीर महल, राजमहल, राय प्रवीण महल, रामराजा मंदिर की नगरी

ओरछा ओरछा राज्य की स्थापना 16वीं सदी में बुन्देला राजपूत रूद्रप्रताप ने की थी। ओरछा के प्रांगण में अनेक छोटे मकबरे और स्मारक हैं। इनमें...

कान्हा… साल और बांसों से भरा कान्हा का जंगल

  कान्हा साल और बांसों से भरा कान्हा का जंगल, झूमते-लहराते घास के मैदानी और टेड़ी-मेढ़ी बहने वाली नदियों की निसर्ग भूमि है। सन् 1955 में...

अचानकमार अभयारण्य.. Achanakmar Wildlife Sanctuary

अचानकमार वन्‍य जीवन अभयारण्‍य छत्तीसगढ  राज्य में स्थित एक वन्‍य जीवन अभयारण्‍य है। अचानकमार वन्‍य जीवन अभयारण्‍य को 1975 में तैयार किया गया था। इस अभयारण्य में...

बांधवगढ़.. सफेद शेर की मातृभूमि बांधवगढ़

  बांधवगढ़ शहडोल जिले में विंध्य पर्वत माला की दूरस्थ पहाड़ियों में 448 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में फैला छोटा किन्तु सघन राष्ट्रीय उद्यान है। सफेद शेर...

अच्छी खबर: गंगा आरती के दौरान भगवान भोले की नगरी में चलेगी लग्जरी क्रूज..पंडितों...

वाराणसी...इस श्रावण मास में भोले की नगरी बनारस पहुँचने वाले सैलानियों को 15 अगस्त से तोहफे के रूप क्रूज की सेवा भी उपलब्ध होने...

भेडाघाट.. संगमरमरी चट्टानों का गढ

  भेड़ाघाट भेड़ाघाट (जबलपुर) में संगमरमरी चट्टानों पर तेज प्रवाह से गिरता नर्मदा नदी का जल पर्यटकों को आकर्षित करता है। जबलपुर से 21 कि.मी. दूर...

अमरकंटक.. नर्मदा और सोन नदियों का यह उद्गम आदिकाल से ऋ़षि-मुनियों की तपोभूमि

  अमरकंटक भारत की प्रमुख सात नदियों में से अनुपम नर्मदा का उद्गम स्थल अमरकण्टक प्रसिद्ध तीर्थ और नयनाभिराम पर्यटन स्थल है। मध्यप्रदेश के शहडोल जिले...

चित्रकूट…… ब्रम्हा, विष्णु, महेश के बाल अवतार का स्थान

  चित्रकूट प्राचीन काल में तपस्या और शांति का स्थल चित्रकूट ब्रम्हा, विष्णु, महेश के बाल अवतार का स्थान माना जाता है। वनवास के समय भगवान...

ओंकारेश्वर….. ऊँ की पवित्र आकृति स्वरूप..द्वादश जयोतिर्लिंगों में से एक

  ओंकारेश्वर तथा महेश्वर ओंकारेश्वर:-ऊँ की पवित्र आकृति स्वरूप यह द्वीप सदृश मनोरम स्थल अनंतकाल से तीर्थ के रूप में मान्य है। यहां नर्मदा-कावेरी के संगम पर...
error: Content is protected !!