बदला गया.. सेना में अग्निवीरों की भर्ती का नियम, जानें पूरा सच

नई दिल्ली…भारतीय सेना के तीनों अंगों में पिछले साल लागू की गई “अग्निपथ” योजना के तहत भर्ती हुए अग्निवीरों की ट्रेनिंग शुरु हो चुकी हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक कथित न्यूज का स्क्रीनशॉट तेजी से वायरल हो रहा हैं। इसके मुताबिक सरकार ने सेना में अग्निवीरों की भर्ती के नियम को बदल दिया हैं और अब फिजिकल टेस्ट से पहले लिखित परीक्षा होगी।

इस स्क्रीनशॉट पर एक तरफ ‘एबीपी न्यूज’ का लोगो भी लगा हुआ हैं और पूर्व सेनाध्यक्ष एमएम नरवणे की तस्वीर हैं। दूसरी ओर लिखा हैं, अग्निवीर भर्ती 2023 दौड़ से पहले परीक्षा होगी। Breaking News.बड़ा बदलाव दौड़ से पहले परीक्षा होगी सेना रैली। इसके नीचे लिखा हैं, तूने तो हमारी खुशी ही छीन ली हैं।

एक इंस्टाग्राम यूजर ने इसे शेयर किया हैं।

फैक्ट चेक ने अपनी पड़ताल में पाया कि, सरकार ने सेना में अग्निवीरों की भर्ती का नियम नहीं बदला हैं। सेना में भर्ती होने के लिए पहले दौड़ यानी फिजिकल टेस्ट ही हो रहा है और उसके बाद लिखित परीक्षा।


कैसे पता चला सच?

कीवर्ड्स के जरिए हमने ‘एबीपी न्यूज’ की वेबसाइट पर जाकर चेक किया तो हमें वहां ऐसी कोई भी खबर नहीं मिली जिसमें सेना में अग्निवीरों की भर्ती के नियम को बदलने की जानकारी गई हो। वायरल स्क्रीनशॉट में पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल एमएम नरवणे की तस्वीर हैं। बतौर सेनाध्यक्ष, नरवणे 30 अप्रैल, 2022 को ही रिटायर हो गए थे। जबकि अग्निपथ योजना का ऐलान 15 जून, 2022 को किया गया था। नरवणे के बाद जनरल मनोज पांडे भारत के सेनाध्यक्ष हैं।

जब इस सिलसिले में फैक्ट चेक के टीम ने इंडियन आर्मी के प्रवक्ता से संपर्क किया तो उनका कहना था कि अग्निवीरों की भर्ती के नियम में कोई बदलाव नहीं किया गया हैं।

हमने इंडियन आर्मी की बेवसाइट पर जाकर भर्ती के नोटिफिकेशन को भी देखा। उसके मुताबिक अग्निवीर के तौर पर भर्ती होने के लिए परीक्षार्थियों को पहले फिजिकल टेस्ट पास करना होगा। जिसमें 1.6 किलोमीटर की दौड भी शामिल हैं। इसके बाद मेडीकल टेस्ट होगा और फिर कॉमन एंट्रेंस एग्जामिनेशन के जरिए लिखित परीक्षा होगी।

हमें साल 2016 की कुछ मीडिया रिपोर्ट्स मिलीं, जिनके मुताबिक उस वक्त सेना ने नॉन कमीशंड रैंक्स पर भर्ती के नियम को बदलने का विचार किया था।

जब फैक्ट तक टीम ने सेना के प्रवक्ता से इस बाबत पूछा उन्होंने इस इनकार करते हुए कहा- सेना में भर्ती के जो नियम पहले थे अभी भी वही हैं, और इसमें पहले फिजिकल टेस्ट होता हैं। फिर मेडीकल टेस्ट और सबसे अंत में लिखित परीक्षा।


हमें सेना की वेबसाइट पर साल 2017 की भर्ती के नोटिफिकेशन की कॉपी भी मिली। इसके मुताबिक लिखित परीक्षा, फिजिकल टेस्ट के बाद ही हुई थी।

साफ है, इंडियन आर्मी ने अभी तक अग्निवीरों की भर्ती के नियम में कोई बदलाव नहीं किया है।

क्या हैं अग्निपथ योजना ?

सरकार ने सेना के तीनों अंगों में भर्ती के लिए 15 जून, 2022 को अग्निपथ योजना लागू की थी। इसके तहत गैरकमीशंड रैंक्स में संविदा पर भर्ती करने का प्रावधान हैं। इस योजना के तहत भर्ती होने वालों को अग्निवीर कहा जाता हैं। ये भर्ती चार साल के लिए होगी। चार साल बाद 25 फीसदी अग्निवीर ही सेना में नियमित नौकरी पा सकेंगे। इस योजना के लागू होने के बाद देश के कई हिस्सों में इसका विरोध भी हुआ था।