Bhadirai Picnic Spot Sarastal:शीतकालीन छुट्टियों में घूमने की हैं प्लानिंग, तो सूरजपुर की ये जगह हैं खास, यहां पत्थरों के बीच से बहती हैं नदी…

Bhadirai Picnic Spot Sarastal: छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग ने शीतकालीन अवकाश (winter vacation) घोषित कर दिया हैं। दिसंबर महीने के चौथा सप्ताह में यह छुट्टी घोषित की गई हैं। इसके बाद नया साल आ जाएगा। ऐसे में हर पेरेंट्स, परिवार के साथ शीतकालीन की छुट्टी और नव वर्ष पर सैर सपाटा करना चाहता हैं, लेकिन कहां घूमने जाएं? इसके लिए हर कोई प्लानिंग करता हैं। तो आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताएंगे, जहां की अपने आप में एक अलग पहचान हैं। एकदम प्रकृति के बीचों बीच, हरे भरे पेड़- पौधा, पहाड़ और नदियों के बीच अपनों के संग समय बिताने का अलग अंदाज हैं। दरअसल, छत्तीसगढ़ के सूरजपुर में पत्थरों का विशाल समूह फैला हुआ है, और इस पत्थर के बीच से नदी का पानी बहता हैं। जिसकी कल-कल आवाज अत्यंत मनमोहक सुनाई देती हैं। इसके साथ ही नदी का छोटा रूप देखने को मिलता हैं।

बता दें कि, सुरजपुर जिले के प्रेमनगर ब्लॉक मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर प्रेमनगर ब्लॉक में सारसताल ( Sarastal ) नाम का एक गांव बसा हैं। इस गांव में एक ऐसी जगह हैं जिसे भाड़ीराय (Bhadirai Picnic Spot Sarastal) (भाड़ीराय पिकनिक स्पॉट सारसताल) के नाम से जाना जाता हैं। इस जगह पर पत्थरों का विशाल समूह हैं। इन पत्थरों के बीच से हसदेव नदी बहती है। इस जगह की खासियत ये हैं कि, पत्थरों के बीच-बीच कई प्लेन जगहें हैं, जहां लोग पिकनिक मनाने आते हैं। यहीं नहीं पत्थरों के बीच-बीच में हरे भरे काफी संख्या में पेड़ भी हैं, जो वहां घूमने जाने वाले लोगों को छाया प्रदान करते हैं। प्राकृतिक सौंदर्य से भरा पूरा होने की वजह से ये जगह लोगों में काफी लोकप्रिय हैं।

सूरजपुर के इस खूबसूरत जगह को प्रसिद्ध होने की एक और वजह हैं। दरअसल, इस पिकनिक स्पॉट के करीब में ही दो जिलों का बॉर्डर हैं। दक्षिण दिशा की ओर कोरबा, और पश्चिम की ओर कोरिया जिले का बॉर्डर हैं। ढलती शाम के वक्त इस जगह की खूबसूरती और बढ़ जाती हैं। सूर्य की हल्की किरणे और नदी की आवाज मन को प्रफुल्लित कर देती हैं। साथ ही, इस जगह पर एक पहाड़ की चोटी और नदी पर बना पुल ( Bridge ) इस पिकनिक स्पॉट का वॉच टॉवर का काम करती हैं। यहां चढ़कर आप बांगो डेम की भरा हुआ पानी, आप पास के दृश्य को अपने आंखो से निहार सकते हैं।

सारसताल गांव का इस जगह पर नए साल के मौके पर, जनवरी-फरवरी के महीनों में काफ़ी भीड़ उमड़ती हैं। लोग नया साल सेलिब्रेट (Celebrate New Year) करने इस जगह पर पहुंचते हैं। इस समय प्रकृति सौंदर्य भी पूरे शबाब पर रहता हैं। चारों तरह हरे भरे पेड़ पौधे, पहाड़, और हल्की धूम लोगों के मन को प्रसन्न करती हैं। इस जगह को लोग इसलिए ज्यादा पसंद करते हैं, क्योंकि यहां पत्थरों के बीच-बीच से नदी का पानी बहता हैं। यहीं नहीं, अलग-अलग पत्थरों के बीच से बहकर उपर से पानी नीचे गिरती हैं, जो देखते बनता हैं और नदी के बीच में पिकनिक मनाना को आनंदित करता ही हैं।

गौरतलब हैं कि, इस जगह पर हजारों की संख्या में हर साल सैलानीयां पहुंचते हैं। फिर भी, प्रशासन की नजर इस खूबसूरत जगह पर नहीं पड़ती हैं। जिसकी वजह से यहां का विकास पर्यटन स्थल के रुप में नहीं हो पा रहा हैं। स्थानीय लोगों ने इसके संबंध में कई नेताओं और अधिकारीयों से लम्बे अरसे से मांग कर रहे हैं। लोगों का मांग हैं कि इस खूबसूरत जगह पर मिनी पार्क स्थापित किया जाए। जिससे यहां पर आने वाले सैलानियों को किसी प्रकार का परेशानी ना हो। लेकिन, ग्रामवासियों की इस मांग को स्थानीय नेताओं और अधिकारियों के द्वारा नजर अंदाज किया जा रहा हैं।