अकलतरा विधानसभा से सौरभ सिंह की छुट्टी लगभग तय.. 5 हजार से कम वोटो से जीतने वाले प्रत्याशी को नहीं मिलेगी विधानसभा में टिकट…भाजपा की नई रणनीति..!

जांजगीर चाम्पा : छत्तीसगढ़ में 2023 विधानसभा चुनाव में भाजपा इस बार नई रणनीति के साथ प्रत्याशियों का चयन करने जा रही है। सूत्रों की माने तो इस बार 5 हजार से कम वोटों से जीतने वाले प्रत्याशियों एवं सीटिंग एमएलए की टिकट कट सकती है। वही नए चेहरों को मौका मिल सकता है। जो कार्यकर्ता लंबे समय से संगठन में काम कर रहे हैं। वे इस बार प्रत्याशी बनाये जा सकते हैं। प्रदेश भाजपा द्वारा एवं संघ द्वारा कराए जा रहे सर्वे के अनुसार इस बार भाजपा में 70 प्रतिशत नए चेहरे देखने को मिलेंगे वही इस बार युवा चेहरे जायदा होंगे।

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी इस बार हर एक सीट से चार से पांच अलग-अलग स्तरों पर सर्वे भी करा रही है। वही अपने सीटिंग एमएलए का फीडबैक वोटरों से ले रही है। साथ ही कांग्रेस सरकार के योजनाओं से लोगों को कितना लाभ मिल रहा है। यह भी भाजपा आकलन कर रही है। वही राज्य सरकार की विफलताओं को हर एक जनता तक पहुंचाने की कोशिश भी कर रही है। बिलासपुर में जिस तरह महिलाओं की संख्या हुंकार रैली में पहुंची इससे यही अंदाज लगाया जा रहा है। शराब बंदी को लेकर किए गए राज्य सरकार के वादे पूरे नही होने से खासे नाराज हैं ।

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी  2023 विधानसभा चुनाव में किसी भी तरह सत्ता में काबिज होना चाह रही है। इसलिए एक एक सीट पर सोच विचार के प्रत्याशी तय करेगी। वही अभी से अब प्रत्याशी की तलाश शुरू हो गया है। भारतीय जनता पार्टी में लगातार केंद्रीय नेताओं का आना-जाना छत्तीसगढ़ में हो रहा है। प्रदेश भाजपा में बैठकों का दौर भी अब चल रहा है। इन बैठकों में रणनीति तय कर सलाह, सुझाव लिए जा रहे हैं। वही आने वाले समय में सभी विधानसभा क्षेत्रों में बड़े स्तर पर कार्यकर्ताओं को जोश भरने के लिए कार्यकर्ता सम्मेलन भी हो सकता है।