BREAKING : गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री राम सुंदर दास मंहत को मिली धमकी… दो आरोपी गिरफ़्तार… घटना के बाद आखिर चार दिन पुलिस ने क्यो छिपाई जानकारी…. जाने क्या है पूरा मामला…

जांजगीर-चांपा। राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री रामसुदंर दास मंहत को मोबाइल पर किसी मामले को लेकर आरोपी ने धमकी देते हुए रूपये के मांग की गई। मामले को गंभीरता से लेते हुए मंहत राम सुंदर दास ने मामले की शिकायत शिवरीनारायण थाने मे दर्ज कराया है। पुलिस मामले शिकायत दर्ज कर दोनो आरोपीयों को गिरप्तार कर लिया है। लेकिन खास बात यह है कि मामले की जानकारी शिवरीनारायण पुलिस ने चार दिन तक छिपाई रखी।

चार दिन बाद मिडिया को इसकी जानकारी हुई तो पुलिस कप्तान से जानकारी लेनी चाही लेकिन दो दिनों तक पुलिस कप्तान ने किसी प्रकार की जानकारी होने से इंकार करते रही। आखिर जांजगीर पुलिस ने मामले को चार दिन तक क्यों दबाय रखा समझ से परें है। आज जाकर पुलिस हेड़ क्वाटर निकोलस खलको ने फटाफट न्यूज को बताया कि पूरे मामले मे जांच की जा रही थी। जिसके कारण जानकारी मिडिया तक नही पहुचीं होगी। इस मामले में दो आरोपीयो को रायपुर एवं दुर्ग से गिरफ़्तार किया गया है।

पूरे मामले मे जानकारी देते हुए बताया कि 28 नवबंर को सीएम की कार्यक्रम की तैयारी चल रही थी। इस बीच राजेश्री राम सुंदर दास मंहत के मोबाइल नंबर में जो कि पीए रखा उस नंबर मे फोन आया और सख्स कुछ लेनदेन की बात करते हुए धमकी देने लगा। इस मामले मे मंहत राम सुंदर दास ने लिखित मे शिवारीनारायण थाने मे अपराध दर्ज कराया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के हिसाब से ट्रेस कर दो आरोपी अभिषेक झा रायपुर एंव लोकेश्वर सोनकर को दुर्ग से गिरप्तार कर जेल भेज दिया गया हैं। पुलिस मामले में आरोपीयों के खिलाफ 294, 386, 506 (बी) और 507 के तहत मामला दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी हैं।

आखिर क्यो मामले को छिपाया गया….

सुत्रोे की जानकारी के अनुसार दोनो रायपुर में एक चैनल के पत्रकार होने की जानकारी मिल रही है। अभिषेक झा एक टीवी चैनल का पत्रकार बताया जा रहा है। वही लोकेश्वर सोनकर उनका सहयोगी बताया जा रहा है। जो रायुपर मे एक टीवी चैनल मे काम करते थे। आखिर पूरे मामले को शिवरीनारायण पुलिस किसके कहने पर चार दिनो तक दबाए रखी यह समझ से परे है। इस मामले में लोगो का यह भी कहना हैं आरोपीयों को साजिस की तरह फंसाया गया है। और मामला कुछ और है। हांलाकि इस प्रकार की जानकारी में किसनी सच्चाई यह आने वाले समय पर खुलासा हो पायेगा।

whatsapp group