छत्तीसगढ़: राखड़ परिवहन और डंपिंग में लापरवाही पर होगी सख्त कार्यवाही: रजनी भगत

सक्ती। बड़े सीपत में कराए जा रहे राखड़ डंपिंग क्षेत्र का एसडीएम रजनी भगत ने निरीक्षण किया। उन्होंने कहा मालखरौदा के ऊर्जा संयंत्रों से निकलने वाले राखड़ के परिवहन और डंपिंग में लापरवाही पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। एसडीएम मालखरौदा रजनी भगत ने इस संबंध में आज निरीक्षण किया और सख्त निर्देश दिए। एसडीएम रजनी भगत ने तिरपाल ढांक कर ही राखड़ परिवहन करने तथा धूल उड़ने पर पानी का छिड़काव लगातार करते रहने के भी निर्देश दिए। उन्होंने राखड़ परिवहन के लिए अनुमति प्राप्त वाहनों पर अनुमति आदेश और इनवॉइस की कॉपी भी गाड़ी में रखने के निर्देश दिए। उन्होंने नियम विरुद्ध और गैर जिम्मेदाराना तरीके से राखड़ परिवहन करने पर कार्यवाही करने के निर्देश दिये।

रजनी भगत ऊर्जा संयंत्र से उत्पादित राखड़ और उसके निष्पादन के संबंध में विस्तृत जानकारी ली। पावर प्लांट प्रबंधनों के अधिकारियों ने बताया कि संयंत्र में उत्सर्जित राखड़ का निष्पादन सीमेंट उद्योग में, फ्लाई ऐश ब्रिक निर्माण में तथा अनुमति प्राप्त भूमि में डंपिंग करके किया किया जाता है। रजनी भगत ने कहा कि नागरिकों को बिना परेशानी हुए फ्लाईऐश का निष्पादन किया जाए। फ्लाई ऐश का डंपिंग अनुमति प्राप्त जमीन में ही किया जाए। एसडीएम ने कहा कि राखड़ का सुरक्षित निष्पादन की जाए जिससे नागरिकों को राखड़ से स्वास्थ्यगत परेशानी नहीं हो। साथ ही किसानों के खेतों में भी राखड़ डंपिंग नहीं होना चाहिए। उन्होंने पर्यावरण सुरक्षा की दृष्टि से इस पर गंभीरता पूर्वक कार्य करने के निर्देश सभी संस्थानों को दिए।