Thursday, January 17, 2019
Home आध्यात्म तीर्थ स्थल

तीर्थ स्थल

तीर्थ स्थल ,आध्यात्म की खबरें

हज और बकरीद से जुडी तमाम जानकारी… क्यो जाते हैं हज क्यो मनाते...

इस्लाम धर्म को मानने वालों के लिए हज किसी सी सपने के बराबर होता है..इस्लाम धर्म को मानने वाले अपने जीवनकाल मे एक बार...

इलाहाबाद के पर्यटन और तीर्थ स्थल…

उत्तप्रदेश का इलाहाबाद प्रदेश के प्राचीनतम शहरो मे से एक है,, ये शहर जितना पुराना है, उतने ही यंहा के पर्यटन औऱ तीर्थ स्थानो...

एक लाख छिद्र वाले शिवलिंग की महिमा.. लक्ष्मण ने क्षय रोग से मुक्ति के...

अनोखा स्वयं-भू लक्षलिंग... लक्ष्मणेश्वर मंदिर, खरौद महाशिवरात्रि लगता है मेला जांजगीर चाम्पा छग की काशी के नाम से विख्यात, जांजगीर-चांपा जिले की धार्मिक नगरी 'खरौद' में...

आस्था : घने जंगल में बसे बछराज कुंवर धाम की महिमा…

अम्बिकापुर प्रातापपुर से "राजेश गर्ग"   प्रतापपुर से लगभग 40 किलो मीटर की दूरी पर बलरामपुर-रमानुंजगंज जिले के वाड्रफनगर जनपद के अंतर्गत सघन वनों के बीच...

ओरछा.. जहांगीर महल, राजमहल, राय प्रवीण महल, रामराजा मंदिर की नगरी

ओरछा ओरछा राज्य की स्थापना 16वीं सदी में बुन्देला राजपूत रूद्रप्रताप ने की थी। ओरछा के प्रांगण में अनेक छोटे मकबरे और स्मारक हैं। इनमें...

अच्छी खबर: गंगा आरती के दौरान भगवान भोले की नगरी में चलेगी लग्जरी क्रूज..पंडितों...

वाराणसी...इस श्रावण मास में भोले की नगरी बनारस पहुँचने वाले सैलानियों को 15 अगस्त से तोहफे के रूप क्रूज की सेवा भी उपलब्ध होने...

अमरकंटक.. नर्मदा और सोन नदियों का यह उद्गम आदिकाल से ऋ़षि-मुनियों की तपोभूमि

  अमरकंटक भारत की प्रमुख सात नदियों में से अनुपम नर्मदा का उद्गम स्थल अमरकण्टक प्रसिद्ध तीर्थ और नयनाभिराम पर्यटन स्थल है। मध्यप्रदेश के शहडोल जिले...

उज्जैन… महाकाल और कालभैरव

  उज्जैन पुण्य-सलिला क्षिप्रा के पूर्वी तट पर स्थित भारत की महाभागा नगरी उज्जयिनी को भारत की सांस्कृतिक-काया का मणि-चक्र माना गया है। पुराणों में उज्जयिनी,...

ओंकारेश्वर….. ऊँ की पवित्र आकृति स्वरूप..द्वादश जयोतिर्लिंगों में से एक

  ओंकारेश्वर तथा महेश्वर ओंकारेश्वर:-ऊँ की पवित्र आकृति स्वरूप यह द्वीप सदृश मनोरम स्थल अनंतकाल से तीर्थ के रूप में मान्य है। यहां नर्मदा-कावेरी के संगम पर...

चित्रकूट…… ब्रम्हा, विष्णु, महेश के बाल अवतार का स्थान

  चित्रकूट प्राचीन काल में तपस्या और शांति का स्थल चित्रकूट ब्रम्हा, विष्णु, महेश के बाल अवतार का स्थान माना जाता है। वनवास के समय भगवान...
error: Content is protected !!