देखिए साहब!..भारत के भविष्य से आंगनबाड़ी में कैसे हो रहा खिलवाड़.. और परोस दिया स्लो पॉयजन..जिम्मेदारों की जिम्मेदारी इतनी की कर ली पूरी!…

18359

बलरामपुर..(कृष्णमोहन कुमार)..वैसे तो सरकार ने भारत के भविष्य कहे जाने वाले बच्चों से कुपोषण को दूर करने निछले स्तर से शुरुआत की थी..मगर अब वही निचला तबका ही करप्शन के गिरफ्त में है..और बच्चे सुपोषित तो नही हो रहे..बल्कि उनकी जान से खिलवाड़ हो रहा है..

दरअसल जिले के रामचन्द्रपुर ब्लाक के ग्राम डूगरु के बीचपारा में एक ऐसा मामला सामने आया है..जिसमे भारत का भविष्य कहे जाने वाले बच्चों को आंगनबाड़ी में सुपोषित करने के बजाय स्लो पॉयजन परोसा जा रहा है..और इस मामले की शिकायत जब महिला बाल विकास के अधिकारियों से की गई थी..तो जिम्मेदार अधिकारियों ने अपनी जिम्मेवारी तीन दिन पहले एक शोकॉज नोटिस के जरिए ही पूरी कर ली..

बता दे कि गांव के बीच पारा में आंगनबाड़ी संचालित है..जहाँ रेडी टू इट के नाम पर जमकर कमीशनखोरी का खेल चल रहा है..जिस रेडी टू इट को पेकिंग के तीन माह में ही अमानक घोषित कर दिया जाता है..जबकि यहाँ फरवरी माह का रेडी टू इट बच्चो को परोसा जा रहा है..यह रेडी टू इट इसलिए परोसा जाता है..ताकि बच्चों में किसी प्रकार के विटामिन की कमी हो तो उसे पूरी की जा सके..लेकिन यहाँ विटामिन की कमी पूरी करने की बात तो छोड़िए साहब यह अब स्लो पॉयजन बन चुका है..जिसे और कोई नही बल्कि ग्राम तारकेश्वर पुर की निरंजन महिला स्व सहायता समूह के द्वारा तैयार किया गया था..

वही इस मामले के उजागर होने के बाद सेक्टर प्रभारी उर्मिला राजवाड़े के मुताबिक यह सेक्टर उनका नही है..बल्कि उन्हें जबरन थोप दिया गया है..और वे प्रभार में है..

इसके अलावा ग्रामीणों की शिकायत के बाद महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी जेआर प्रधान ने सम्बंधित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से लेकर महिला स्व सहायता समूह को एक कारण बताओ नोटिस जारी कर मामले मे खानापूर्ति कर ली ..लेकिन आलम वही का वही है..समूह संचालक के राजनीतिक कद के पैमाने के हिसाब से आज भी वही रेडी टू इट(शिशु पूरक पोषण आहार) आंगनबाड़ी में परोसी गई..

बहरहाल इस मामले में जांच और जांच के बाद अलग -अलग मामलों में होने वाली कार्यवाही देखने को मिलेगी..पर उन भारत के भविष्य का क्या होगा जिन्हें बिना गलती सजा भुगतनी पड़ रही है..और एक्सपायरी डेट का रेडी टू इट उन्हें खिलाया गया..