सरकार बदल गई. लेकिन नहीं बदल रही है अधिकारियों की आदत, वन अधिकार पट्टा के आवेदनों पर ग्राम सभाओं में हितग्राहियों के साथ हो रहा बड़ा धोखा, कलेक्टर बोले अपात्र 53 हज़ार आवेदनों पर करना है समीक्षा…

1980

अंबिकापुर.. बलरामपुर जिले के राजपुर विकासखंड के वन वासियो के साथ वन विभाग के अफसर और ग्राम पंचायत के जिम्मेदार बड़ा धोखा कर रहे हैं…

नए सरकार के आदेश पर वन वासियों द्वारा पूर्व में जमा किये गए पुराने आवेदनों पर विशेष ग्राम सभा में समीक्षा कर पात्र हितग्राहियों का चयन करना है लेकिन अधिकारियो द्वारा ऐसा प्रचारित कर दिया गया कि सिर्फ सामुदायिक भूमि के लिए ऐसा करना है और जिन हितग्राहियों ने व्यक्तिगत वन अधिकार पट्टा के लिए आवेदन जमा किया है उस पर निर्णय नहीं लेना है , इसके वजह से लोगों में नाराजगी है तो समझा जा रहा है कि कुछ अधिकारी सरकार की छवि को ख़राब करना चाह रहे हैं…

कई पंचायतो में इस तरह की गफलत हो चुकी है, इस पर ग्रामीणों का कहना है कि दूबारा ग्राम सभा आयोजित कर पात्र हितग्राहियो का चयन किया जाये जिन्हे अब तक अपात्र कर दिया गया था . राजपुर ब्लाक के धंधापुर में पिछड़ा वर्ग के हितग्राहियो के द्वारा पूर्व में जमा आवेदनों पर यहकर समीक्षा ही नहीं किया गया कि कुछ माह पहले ही समीक्षा हुआ था जबकि इस ग्राम सभा में भी समीक्षा करना था…

वहीं पिछड़ा वर्ग के वन वासियों का लम्बे समय से मांग रहा है कि उनके आवेदनों पर सरकार ध्यान नहीं देती लेकिन इस बार नए सरकार से उनमें भी उम्मीद जगी है…

इस पर बलरामपुर कलेक्टर हीरालाल नायक ने साफ कहा है कि सरकार के आदेशानुसार जिले में अब तक निरस्त हुए 53 हजार व्यक्तिगत आवेदनों पर भी समीक्षा करना है , इसके लिए सभी वन अधिकारियो को निर्देशित किया गया है . ऐसा नहीं करने वाले अफसरों के खिलाफ कार्यवाही होगी…

  • 10
    Shares