Thursday , January 18 2018
Home / आध्यात्म / तीर्थ स्थल (page 4)

तीर्थ स्थल

तीर्थ स्थल ,आध्यात्म की खबरें

वृंदावन में प्रणब मुखर्जी ने किया चंद्रोदय मंदिर का शिलान्यास

लखनऊ राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज सुबह वृंदावन में दुनिया के सबसे ऊंचे चंद्रोदय मंदिर का शिलान्यास किया। इस अवसर पर यहां प्रस्तवित चंद्रोदय मंदिर की उन्होंने स्थापना पूजा की। अपने संक्षिप्त संबोधन में उन्होंने कहा कि वृंदावन दुनिया को शाति और समरसता का संदेश देगा। राष्ट्रपति ने कहा कि वृंदावन को धार्मिक पर्यटन का केंद्र बनाने के उत्तर प्रदेश …

Read More »
Bhimashankar Jyotirlinga in Maharastra,

भीमाशंकर मंदिर

मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है पुणे से करीब 100 किलोमीटर दूर स्थित है बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है भीमाशंकर मंदिर प्रसिद्ध धार्मिक केंद्र भीमाशंकर मंदिर महाराष्ट्र में पुणे से करीब 100 किलोमीटर दूर स्थित सह्याद्रि नामक पर्वत पर है। यह स्थान नासिक से लगभग 120 मील दूर है। यह मंदिर भारत में पाए जाने वाले …

Read More »
Grishneshwar Jyotirling

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

एलोरा की गुफाओ के समीप स्थित घृष्णेश्वर मन्दिर बारह ज्योतिर्लिगों में से एक महाराष्ट्र का प्रसिद्ध घृष्णेश्वर या घुष्मेश्वर महादेव का मंदिर औरंगाबाद शहर के समीप दौलताबाद से 11 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। घृष्णेश्वर मन्दिर भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिगों में से एक है। इस मंदिर का अंतिम जीर्णोद्धार 18 वीं शताब्दी में इंदौर की महारानी पुण्यश्लोका देवी …

Read More »
trimbakeshwar Jyotirlinga

त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिग

ब्रह्मगिरि नामक पर्वत पर विराजमान है त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिग

Read More »

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर,, वाराणसी

भारत की सबसे पवित्र नदी गंगा के पश्चिमी किनारे पर खड़े , वाराणसी दुनिया का सबसे पुराना जीवित शहर और भारत की सांस्कृतिक राजधानी है . यह शिव का ज्योतिर्लिंग , Vishweshwara या विश्वनाथ निहित है जिसमें अपनी पूरी महिमा काशी विश्वनाथ मंदिर में वहाँ खड़ा है कि इस शहर के दिल में है . यहां भारत के लाखों लोगों …

Read More »

इलाहाबाद के पर्यटन और तीर्थ स्थल…

उत्तप्रदेश का इलाहाबाद प्रदेश के प्राचीनतम शहरो मे से एक है,, ये शहर जितना पुराना है, उतने ही यंहा के पर्यटन औऱ तीर्थ स्थानो के इतिहास  भी पुराने  है। इलाहाबाद के ऐसे ही पौराणिक और पर्यटन महत्व के स्थानो को हमने पंक्तिबद्द करने की कोशिश की  है।   पर्यटक स्थल….. संगम सिविल लाइन्स से लगभग 7 किमी दूर स्थित यह …

Read More »

हरिद्वार का कुंभ और मेला…

मेले और उत्सव   लगभग सभी धर्मों के त्योहारों उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है राज्य के समग्र संस्कृति पूरे भारत में प्रसिद्ध है . विभिन्न समुदायों gaity और पूरा सांप्रदायिक सद्भाव के साथ के रूप में कई के रूप में 40 त्योहारों को मनाते हैं. शीतला अष्टमी , रक्षाबंधन , Vaishakhi पूर्णिमा , गंगा Dashahara , नाग पंचमी , …

Read More »

ज्वालादेवी मंदिर………….. हिमाचल प्रदेश

कांगड़ा घाटी, हिमाचल प्रदेश से क़रीब 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ज्वालादेवी मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहाँ माँ शक्ति की नौ ज्वालाएँ प्रज्ज्लित हैं। माना जाता है कि देवी सती की जीभ इसी जगह गिरी थी। कालीधर पर्वत की शांत तलहटी में बसे इस मंदिर की विशेषता यह है कि यहाँ देवी की कोई मूर्ति नहीं है। …

Read More »

ओरछा.. जहांगीर महल, राजमहल, राय प्रवीण महल, रामराजा मंदिर की नगरी

ओरछा ओरछा राज्य की स्थापना 16वीं सदी में बुन्देला राजपूत रूद्रप्रताप ने की थी। ओरछा के प्रांगण में अनेक छोटे मकबरे और स्मारक हैं। इनमें से प्रत्येक का रोचक इतिहास है। मध्यकाल की यह प्रसिद्ध एतिहासिक नगरी है। दर्शनीय स्थल जहांगीर महल, राजमहल, राय प्रवीण महल, रामराजा मंदिर, चतुर्भुज मंदिर, लक्ष्मीनारायण मंदिर, फूल बाग, दीवान हरदौल महल, सुन्दर महल, छत्रियां, …

Read More »

ओंकारेश्वर….. ऊँ की पवित्र आकृति स्वरूप..द्वादश जयोतिर्लिंगों में से एक

  ओंकारेश्वर तथा महेश्वर ओंकारेश्वर:-ऊँ की पवित्र आकृति स्वरूप यह द्वीप सदृश मनोरम स्थल अनंतकाल से तीर्थ के रूप में मान्य है। यहां नर्मदा-कावेरी के संगम पर ओंकार मांधाता के मंदिर में स्थापित ज्योतिर्लिंग पुराण प्रसिद्ध द्वादश जयोतिर्लिंगों में से एक है। दर्शनीय स्थल ओंकार मांधाता, सिद्धनाथ मंदिर, चौबीस अवतार, सप्त मातृका मंदिर तथा काजल रानी गुफा आदि यहां है।   …

Read More »