Monday , January 22 2018
Home / इतिहास / उत्तरप्रदेश का इतिहास (page 2)

उत्तरप्रदेश का इतिहास

up ka history

यहाँ नहीं होती किसी की मौत सांप के काटने से…आते हैं इच्छाधारी नाग भी…

उत्तरप्रदेश आज हम आपको बताने जा रहें हैं अपने देश के एक ऐसे स्थान के बारे में जहां पर साधारण लोग सांपों के साथ में आपको खेलते मिल जायेंगे, असल में इस जगह की खासियत यही है कि यहां पर सांप के काटने से कभी किसी की मृत्यु नहीं होती है। आइये जानते हैं इस स्थान के बारे में। यह …

Read More »

घास की रोटि और कीचड़ का पानी पी रहे हैं बुंदेलखंड के किसान…

ग्वालियर  बचपन में आपने या तो पढ़ा होगा या कहानियों में सुना होगा ”राजकुमारी घास की रोटी”, पढ़िए इस जुमले के पीछे का दर्दनाक सच ,, क्या आप जानते हैं कि हर रोज कितने किसान गरीबी की मार झेल कर मौत को गले लगाते हैं या बीती रात कितने लोग बगैर खाये सो गए थे? शायद नहीं. इससे हमें क्या …

Read More »

PM ने दलित छात्र की आत्महत्या पर चुप्पी तोड़ी

लखनऊ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद विश्वविद्यालय के पीएचडी के दलित छात्र की आत्महत्या पर चुप्पी तोड़ते हुए आज शोक व्यक्त किया हालांकि उनके संबोधन के दौरान कुछ छात्रों ने नारेबाजी की. भावुक दिखे मोदी ने कहा, ‘‘…जब यह खबर मिलती है कि मेरे ही देश के जवान बेटे रोहित को आत्महत्या के लिये मजबूर होना पड़ा. मां भारती ने …

Read More »

मकर संक्रांति की पहली डुबकी

इलाहाबाद मकर संक्रांति की पहली डुबकी के साथ संगम की रेती पर माघ मेले की शुरुआत होगी। आमतौर पर माघ मेले के छह प्रमुख स्नानपर्वों में से पौष पूर्णिमा से ही मेले की शुरुआत होती थी। अबकी मकर संक्रांति पर ही पहली डुबकी लगेगी और इसी के साथ प्रशासन की तैयारियों की परीक्षा होगी। अपनी अपनी परंपरा और तिथि के …

Read More »

मोदी की सीट वाराणसी में मिले तीन लाख फर्जी वोटर

वाराणसी जिस वाराणासी संसदीय सीट से नरेंद्र मोदी ने 371784 वोटों से जीत हासिल की है, वहां 311057 फर्जी वोटर मिले हैं। अभी गिनती जारी है और जिला प्रशासन का अनुमान है कि फर्जी वोटरों की संख्या 647085 जा सकती है। इतनी बड़ी संख्या में फर्जी वोटर पहली बार वाराणसी में सामने आए हैं। लाखों की तादाद में मिले फर्जी …

Read More »

वाराणसी की महिला स्वतंत्रता सेनानियो का इतिहास

श्रीमती आनंदी देवी : – पिता `के नाम: श्री Surabh Kalwar , जन्म स्थान: वाराणसी . वह 1932 के दौरान ” Savinay Avagya आंदोलन ” में भाग लिया श्रीमती . Anpurna देवी : – पिता `के नाम: श्री देना नाथ Battacharya , जन्म स्थान: वाराणसी . वह 1932 के दौरान ” Savinay Avagya आंदोलन ” में भाग लिया श्रीमती . …

Read More »

वाराणसी के स्वतंत्रता सेनानियों का इतिहास

भारत रतन डा. भगवान दास जी : – पिता `के नाम: श्री माधो दास जी , जन्म तिथि : 12 जनवरी 1869 , जन्म स्थान: सेवा सदन Sigra , वाराणसी . . शिक्षा: कलकत्ता विश्वविद्यालय से दर्शन Shashtra में एमए . वह पहले कुलपति बने. Hewas गिरफ्तार कर लिया और प्रिंस ऑफ वेल्स के स्वागत का विरोध करने के लिए …

Read More »

रामनगर

  14 किमी. वाराणसी से, गंगा नदी रामनगर के विपरीत तट पर स्थित है. रामनगर में किले पुरानी कारों, रॉयल palkies, तलवार की एक शस्त्रागार और पुराने बंदूकें, आइवरी काम और प्राचीन वस्तुओं की घड़ियों में शामिल हैं जो शाही संग्रह को प्रदर्शित करने के लिए एक संग्रहालय घरों. दुर्गा मंदिर और Chhinnamastika मंदिर भी रामनगर में स्थित हैं. VedVyasa …

Read More »

सारनाथ का इतिहास

इतिहास सारनाथ भारत के चार सबसे महत्वपूर्ण बौद्ध तीर्थ केंद्रों में से एक है . बुद्ध , महान ऋषि , बोधगया में ज्ञान ( बुद्ध हुड ) प्राप्त करने के बाद सारनाथ के लिए आया था और redeeming मानवता के लिए पांच शिष्यों (यानी Kaundinya , Bashpa , Bhadrika , Mahanaman और Ashvajit ) को अपना पहला उपदेश दिया . …

Read More »

झांसी का इतिहास

झांसी नदियों Pahunj और बेतवा के बीच स्थित झांसी शहर , बहादुरी , साहस और आत्म सम्मान का प्रतीक है . यह प्राचीन काल में झांसी क्षेत्रों Chedi राष्ट्र , Jejak Bhukit , Jajhoti और बुंदेलखंड का एक हिस्सा था कि कहा जाता है . झांसी चंदेल राजाओं का गढ़ था . बलवंत नगर में इस जगह का नाम था …

Read More »