Friday , October 20 2017

झांसी

histroy in Jhansi

घास की रोटि और कीचड़ का पानी पी रहे हैं बुंदेलखंड के किसान…

ग्वालियर  बचपन में आपने या तो पढ़ा होगा या कहानियों में सुना होगा ”राजकुमारी घास की रोटी”, पढ़िए इस जुमले के पीछे का दर्दनाक सच ,, क्या आप जानते हैं कि हर रोज कितने किसान गरीबी की मार झेल कर मौत को गले लगाते हैं या बीती रात कितने लोग बगैर खाये सो गए थे? शायद नहीं. इससे हमें क्या …

Read More »

झांसी का इतिहास

झांसी नदियों Pahunj और बेतवा के बीच स्थित झांसी शहर , बहादुरी , साहस और आत्म सम्मान का प्रतीक है . यह प्राचीन काल में झांसी क्षेत्रों Chedi राष्ट्र , Jejak Bhukit , Jajhoti और बुंदेलखंड का एक हिस्सा था कि कहा जाता है . झांसी चंदेल राजाओं का गढ़ था . बलवंत नगर में इस जगह का नाम था …

Read More »