Friday , October 20 2017
Home / इतिहास / केरल का इतिहास

केरल का इतिहास

history of kerala

केरल बना युवाओं का ग्लोबल प्लेटफार्म

जोश और जुनून हो तो भला क्या नहीं किया जा सकता है, एसा ही कुछ कर दिखाया है दो हजार युवाओं ने। इन्होंने दो साल में 650 आईटी कंपनियां बनायी हैं। इनमें से कुछ पढ़ाई पास कर चुके हैं तो कुछ पढ़ाई करते हुए ही अपनी कंपनी के मालिक बन चुके हैं। दरअसल कोच्चि का इंडस्ट्रियल एरिया वो मुकाम हासिल …

Read More »

आधुनिक केरल का इतिहास

केरल का आधुनिक इतिहास 18 वीं शती से शुरू होता है । ब्रिटिश उपनिवेशीय शासन के प्रारम्भ से लेकर आज तक का इतिहास इस काल खण्ड में आता है । इसी कालखण्ड में आधुनिक केरल का गठन हुआ था । इस कालखण्ड का सबसे शक्तिशाली राज्य तिरुवितांकूर था जहाँ ब्रिटिशों का प्रत्यक्ष शासन नहीं चल रहा था । तिरुवितांकूरतिरुवितांकूर नाम कैसे  …

Read More »

मध्यकालीन केरल का इतिहास

कुलशेखर साम्राज्य के पतन काल याने 12 वीं शती ईस्वी से लेकर यूरोपीय औपनिवेशिक सत्ताओं के आधिपत्य जमने के काल, याने 17 वीं शती तक का काल केरलीय इतिहास में मध्यकाल नाम से जाना जाता है । इस काल में केरल जो  अनेक रियासतों में बँटा हुआ था पश्चिम के अधीन हो गया । इस अवधि में केरल के सामाजिक …

Read More »

केरल का प्राचीन इतिहास

केरल का प्राचीन इतिहास प्राचीन युग से लेकर कुलशेखर साम्राज्य के समाप्तिकाल तक याने 12 वीं शती तक व्याप्त रहता है ।  महाप्रस्तर स्मारक – केरल के प्राचीन अधिवास के प्रमाण के रुप में विभिन्न स्थानों से खोज निकाले पत्थर के औजारों को ले सकते हैं, विभिन्न स्थानों जैसे वयनाटु के एडाक्कल, तोवरि, इटुक्की के मरायूर के पास के कुटक्काट …

Read More »

केरल का इतिहास..

केरल का इतिहास अपने वाणिज्य से निकट से जुड़ा है, जो हाल तक अपने मसाले के व्यापार के इर्द-गिर्द घूमता था। भारत के ‘स्पाइस कोस्ट’ के रूप में विख्यात, प्राचीन केरल ने विश्वभर के पर्यटकों और व्यापारियों की मेजबानी की है जिनमें शामिल हैं ग्रीक, रोमन, अरबी, चाइनीज़, पुर्तगाली, डच, फ्रांसीसी, और अंग्रेज। इनमें से लगभग सभी ने इस भूमि …

Read More »