Friday, August 17, 2018

कटाक्ष ! मीडिया पर ऊंगली उठाने वालो कि अब ऊंगली भी नही आ रही...

मीडिया वेश्या नही दर्पण है ज़नाब  सोशल मीडिया और चंद प्रभावी अंधभक्तो ने पांच राज्यों के चुनाव नतीजो मे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की समीक्षा पर कई...

साहित्य : पं.प्रांजल शुक्ला की कलम से …..

पं. प्रांजल शुक्ला कोरबा छत्तीसगढ़   बरसात आँगन पे सावन की आई बहार, रिमझिम रिमझिम की फुहार,, बरसे रे बदरिया कही धुँवाधार, सरिता पे सदा की तरह तेज चली जब...

जोगी का खुमार…भाजपा कांग्रेस को बुखार…..

रायपुर सोशल मीडिया में ताजा हलचल भाजपा ने जमकर बांटी रेवडिया... मोर्चा से लेकर प्रकोष्ठों तक ज्यादा से ज्यादा पदों के बंटवारे की मानो बाढ़...

राज्य के चहुंमुखी विकास में महिलाओं की भागदारी…

 रायपुर                                                                                                                                                           लेखक-सुनीता केशरवानी स्त्री जननी और मानव जीवन का आधार स्तम्भ हैं। वह घरए परिवार और समाज को मजबूती प्रदान करने वाली सबसे महत्वपूर्ण कड़ी...

सांप्रदायिकता पर सियासी संवेदनशीलता के क्या कहने

पुण्य प्रसून बाजपेयी लोकसभा चुनाव से पहले और लोकसभा चुनाव के बाद के हालात बताते है कि साप्रदायिक हिंसा चुनावी राजनीति के लिये सबसे बेहतरीन...

केरल बना युवाओं का ग्लोबल प्लेटफार्म

जोश और जुनून हो तो भला क्या नहीं किया जा सकता है, एसा ही कुछ कर दिखाया है दो हजार युवाओं ने। इन्होंने दो...

मजदूर मोर्चा की बैठक मे सांसद कमलभान सिंह मौजूद रहे…

अम्बिकापुर   आज  27 जुलाई को स्थानीय भाजपा कार्यालय संकल्प भवन में भारतीय जनता मजदुर मोर्चा सरगुजा के जिला कार्यसमिति की बैठक आयोजित कि गई जिसमें...

विशेष लेख …. पर्यटन के नए कीर्तिमान गढ़ता छत्तीसगढ़

रायपुर  लेखक ललित शर्मा द्वारा  छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण के डेढ दशक बाद के बदलाव स्पष्ट दिखाई देते हैं। राज्य ने लगभग सभी क्षेत्रों में विकास...

नीयत, नीति और वायदों को पोटली में बाधकर निकलने का समय आ गया है...

चिरमिरी से रवि कुमार सावरे... आर्टिकल नीयत, नीति और वायदों का समय, नेताजी चुनाव आ गया है कहने का तात्पर्य बिल्कुल साफ है लोकसभा चुनाव सर...

चुनाव आते ही मक्खी की तरह भिनभनाते लगते है नेता…

संपादकीय बरसात आते ही मेढक टरटराने लगते है। गंदगी होते ही मक्खी भिनभिनाने लगती है। फूल खिलते ही भंवरे मंडराने लगते है। रात होते है...
error: Content is protected !!