अब ऑक्सी रीडिंग जोन मे खुले आसमान के नीचे युवा कर सकेंगे पढाई.. क्या है ये जोन जानिए ?

330
oxy reading zone raipur
Hader add
Hader add
Hader add
Hader add

रायपुर युवाओं के लिए एनआईटी और सेन्ट्रल लाइब्रेरी के बीच बन रहा विश्वस्तरीय ऑक्सी रीडिंग जोन अपनी पूर्णतः की ओर है। इसमें युवा ठण्डी हवा के साथ खुले आसमान के नीचे पढाई कर सकेंगे। कलेक्टर ओ.पी. चौधरी और नगर निगम आयुक्त ने आज यहां ऑक्सी रीडिंग जोन के अंतिम चरण में चल रहे निर्माण कार्य का जायजा लिया। रीडिंग टॉवर की छत में हेगिंग लाईट और आवश्यक फर्नीचर लगाया जा रहा है। उन्होने कैम्पस में पेड़ो के नीचे बनाए गए गजिबो, केनोपी और परगोलास में पर्याप्त रोशनी करने के निर्देश दिए है।

गौरतलब है कि चौबीसो घण्टे संचालित होने वाले ऑक्सी रीडिंग जोन में युवाओं को सिविल सेवा सहित राष्ट्रीय स्तर की विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए आवश्यक सुविधा सहित प्रतियोगी वातावरण मुहैया कराया जा रहा है। रीडिंग टावर की दीवालों में हीट रजिस्टेंस ग्लास और थर्मल इंसुलेशन युक्त छत का निर्माण किया जा रहा है। यहां ई-लाइब्रेरी, वाईफाई जोन और मल्टीमीडिया क्लास रूम बनाए जा रहे है। पूरे कैम्पस  में सुरक्षा के लिए सीसीटीव्ही कैमरें और पीएस सिस्टम लगाया जा रहा है। रीडिंग टावर के बाहर चारो तरफ पीपल, कदम, अमलतास, कचनार, नीम सहित विभिन्न प्रजातियों के पौधे लगाए गए है। उसके साथ ही युवा पानी के समीप पढाई कर सके, उसकी भी व्यवस्था ऑक्सी रीडिंग जोन में की गई है। ऑक्सी रीडिंग जोन में युवाओं को पढ़ने के लिए सालभर वातानुकूलित माहौल उपलब्ध होगा वही खुले आसमान के नीचे प्रकृति के सानिध्य में भी पढाई कर सकेंगे।

  • 6
    Shares
Hader add
Hader add