पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर और बेटे की करतूत.. नई बहु के साथ ऐसा घिनौना काम..!

7425

 

सतना दहेज़ की भूख में इंसान किस कदर हैवान बन जाता है,, इसकी बानगी एक बार फिर सतना में देखने को मिली है,, जहाँ दहेज़ की मोटी रकम देने के बाद भी ससुराल वालो की भूख ख़त्म नहीं हुयी थी,, सादी के बाद 10 लाख की और मांग की गयी जब मायके वालों ने यह मांग नहीं पूरी की,, तो पती और ससुराल वाले एक हैवान की तरह नयी दुल्हन को कठोर यातनाये देने लगे,, कभी लाठियों से तो कभी पैरों से कुचल कर मारते रहे,, लेकिन नवविहाहिता लोक लज्जा के चलते चुपचाप सब सहती रही,, उन हैवानो की दरिंदगी की हद तब पार हो गयी जब सून सान इलाके में लेजाकर उसे तेज रफ़्तार कार से धक्का दे दिया,, यही नहीं जिन्दा बचगयी तो कार से कुचल कर मरने की कोसिस की गयी,, इस घटना के आरोपी भी कोई और नहीं बल्कि  सतना के पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर और उनका बेटा है,, मामला शिविल  लाइन थाना पहुंचा है अब बारी है तो दहेज़ के इन भूंखे भेड़ियों के जेल जाने की !

 

सतना के लोहरौरा गांव निवासी सिवनी और उसके परिवार ने सायद कभी नहीं सोचा होगा की,, अपनी फूल सी बेटी की सदी वे जिससे कर रहे वो किसी हैवान से कम नहीं,, सिवानी की सदी तीन माह पहले 8 दिसंबर को सतना के पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर नागेंद्र मणि मिश्रा के एकलौते बेटे प्यूष से हुयी,, ससुराल वालों की मांग पर शिवानी के मायके वालों ने पांच लाख नगद और चमचमाती स्कार्पियों कार दहेज़ में दी,, लेकिन उनकी दहेज़ की भूख ख़त्म नहीं हुयी थी,, और सदी के कुछ दिन बाद ही ससुराल वालों ने 10 लाख रूपए की और मांग करदी जिसे देने में शिवानी के मायके वाले देने में असमर्थ थे,, फिर क्या दहेज़ के भूंखे इंसान रूपी भेड़िये प्यूष और उसके पिता नागेंद्र मणि ने शिवानी को यातनाये देने लगे,, आये दिन शिवानी के साथ बेरहमी से मार पीट की जाती,, और शिवानी अपनी परिवार की बदनामी के डर से चुप चाप इस यातनाओं को सहती रही,, कुछ माह बाद इस बात की खबर शिवानी के भाई को पता चली और शिवानी को लेकर मामले की शिकायत भाई ने महिला थाने में कर दी,, पुलिस ने मामला परिवार परामर्श केंद्र भेज कर समझौता करा दिया,, लेकिन समझौते के बाद दोबारा शिवानी पर यातनाओ का दौर सुरु हुआ,, और 2 मार्च होली के दिन तो हद ही पार होगयी,, शिवानी को उसकी साश ससुर और पती ने पहले तो बेरहमी से पीटा और फिर उसे मायके भेजने के बहाने उसका पति स्कॉर्पियों कार में बैठा कर सून सान इलाके में लेगया,, जहाँ तेज रफ़्तार कार से धक्का दे दिया शिवानी सिर्फ घायल हुयी तो कार को बैक कर उसे कुचल कर मारने का प्रयास किया,, गनीमत रही की कार सड़क के डिवाइडर से जा टकरायी और आसपास मौजूद लोग मोके पर पहुंचे,, शिवानी उनकी मदत से जिला अस्पताल पहुँची शिवानी की हाँथ की 7 जगहों से हड्डी टूटी थी और हालत गंभीर थी लिहाजा डॉक्टरों ने जबलपुर रेफर कर दिया,, वहां से इलाज के बाद शिवानी ने दोबारा पुलिस में शिकायत की,, और इन दहेज़ के भूखे हैवानो का पर्दा फास हुआ !

 

बहरहाल महज़ तीन माह पहले जिंदगी भर साथ देने के लिए खाई गई क़सम और अग्नि के सामने लिए गए  सात फेरों के बंधन पर दहेज का दानव भारी पड़ गया,,, और लालची सशुराल पक्ष के लोग जेल पहुच गए,, तो पीड़िता का जीवन बर्वाद हो गया हालकि पीड़िता जिंदा तो है,, पर दिल तिल घुट रही । दहेज ने उसे ऐसा जख्म दिया कि सायद ही कभी वो भूल पाए ।

गुरूकरण सिंह एएसपी सतना पुलिस 

पुलिस ने शिवानी के बयानों के आधार पर पति और सास ससुर पर दहेज़ प्रताड़ना और 307 की धरा के तहत मामला कायम किया है ,, मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने आनन फानन में आरोपी पति और सास को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है,, वही ससुर नागेंद्र मणि फरार बताया जा रहा है,, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है !