सूरजपुर का एक ऐसा अस्पताल जहां इलाज नही होता है…..

88
Hader add
Hader add
Hader add
Hader add

बिश्रामपुर (पारसनाथ सिंह) आम तौर पर सरकार क्षेत्र मे स्वास्थ सुविधाओ की बेहतरी या क्षेत्र वासियो की मांग पर स्वास्थ केन्द्रो को निर्माण करती है,,, लेकिन प्रशासनिक अनदेखी के काऱण कभी कभी उसका वास्तविक लाभ लोगों को नही मिल पाता है,,, ऐसा ही हुआ छत्तीसगढ के सूरजपुर जिले मे , जहां के सूरजपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत रामनगर में एक उप स्वास्थ्य केंद्र की बिल्डिंग तो तैयार है,,, और जानकारी के मुताबिक ये उप स्वास्थ्य केंद्र को बने लगभग दो माह हो गए हैं,,, लेकिन हैरानी इस बात कि अब तक ये केन्द्र शुरू ही नही हो पाया है,,, और अधिकारीयों की नज़र भी इस पर नहीं पड़ रही है,,,,,  ऐसी स्थिति में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को इलाज के लिए 10-15 किलोमीटर दूर शहर बिश्रामपुर या सूरजपुर जाना पड़ता है,,,,

9 गाँव के ग्रामीण आते है रामनगर सेक्टर में…

ग्रामीणों को अपने ही गांव में ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके, इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से ग्राम पंचायत में उप स्वास्थ्य केंद्र तो बना दिया गया,,,  लेकिन अभी तक उसका उद्घाटन नही हुआ है,, और उद्घाटन नही होने की वजह से उप स्वास्थ्य केंद्र शुरू भी नहीं हो सका है,, उप स्वास्थ्य केंद्र के शुरू न होने से रामनगर पंचायत के आलावा रामपुर, रुनियाडीह, सरस्वतीपुर, खरसुरा, दतिमा, कुमदा बस्ती, गाँगीकोट, सोहागपुर, के ग्रामीणों को दूर शहरों इलाज कराने जाना पड़ता है। ग्रामीणों को मज़बूरी में बुखार, खाँसी, जुकाम जैसी बिमारियों के लिए झोलाछाप डॉक्टरों के यहाँ जाकर इलाज कराना पड़ रहा है,, तथा गंभीर बिमारी से पीड़ित होने पर बिश्रामपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र या जिला चिकित्सालय सूरजपुर की ओर रुख करना पड़ता है,,  वहीँ इस संबंध में सूरजपुर जिले के CMO डाँ एस.पी.वैश्य ने कहा की मैं गया था देखने बिजली का बस लगना बाकी है,,, इसके बाद शिफ्ट हो जायेगी।

ीो

Hader add
Hader add