भगवान श्रीराम से ही नही इन कथाओं से भी हैं जुड़ा दीपावली का महत्व

341

मान्यता हैं कि भगवान श्रीराम के वन-वास से लौटने की याद में ही दीपावली पर्व मनाया जाता हैं लेकिन वास्तव में ऐसी कई अन्य घटनाएं भी हैं जिनके कारण दीपावली मनाई जाती हैं। बचपन से ही हमें एकमात्र घटना के बारे में ही बताया जाता आ रहा हैं कि इस दिन ही भगवान श्रीराम अपना वन-वास पूरा कर अयोध्या आये थे और उन्हीं के वापिस आने की खुशी में लोगों ने दीपक जलाए थे। मगर सच यह हैं कि ऐसी कई अन्य घटनाएं हैं जिनके कारण दीपावली पर्व का आयोजन किया जाता हैं। आइये जानते हैं इन घटनाओं के बारे में।

1 – देवी लक्ष्मी का जन्मदिन

शास्त्रों के अनुसार इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का जन्म भी हुआ था और इसी कारण दीपावली पर देवी लक्ष्मी का पूजन किया जाता है। दिवाली मनाने का यह भी एक कारण हैं।

2 – वामन अवतार का आगमन

शास्त्रों के अनुसार इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का जन्म भी हुआ था और इसी कारण दीपावली पर देवी लक्ष्मी का पूजन किया जाता है। दिवाली मनाने का यह भी एक कारण हैं।

भगवान विष्णु के वामन अवतार के बारे में आप सभी ने सुना ही होगा। माना जाता हैं कि आज ही के दिन भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण किया था और देवी लक्ष्मी को असुर राजा बलि की कैद से मुक्त कराया था। इस कारण भी आज का दिन महत्वपूर्ण हैं।

3 – नरकासुर का वध

शास्त्रों के मुताबिक असुर नरकासुर ने 16 हजार महिलाओं को बंदी बनाया हुआ था। इस राक्षस का वध भगवान श्रीकृष्ण ने दीपावली से एक दिन पहले ही किया था। इस कारण से गोकुल के लोगों ने दीपावली का आयोजन किया था।

4 – भगवान महावीर का निर्वाण

भगवान महावीर जैन धर्म के 24 वे तीर्थंकर माने जाते हैं। भगवान महावीर ने दीपावली के दिन ही निर्वाण प्राप्त किया था इसलिए जैन समुदाय इस दिन को खुशी पूर्वक मनाता हैं।

5 – सिक्ख गुरु हरगोविंद सिंह हुए थे रिहा

हरगोविंद सिंह जी सिक्ख समुदाय के छटे गुरु थे जोकि 1618 में दीपावली के दिन ही बादशाह जहाँगीर की जेल से रिहा किये गए थे। इसके अलावा 1577 दीपावली के दिन ही अमृतसर में स्वर्ण मंदिर का शिलान्यास किया गया था। इस कारण सिक्ख समुदाय दीपावली का पर्व मनाता हैं।