Friday , October 20 2017
Home / breakings / इस शख्स को 48 बार काट चुका हैं कोबरा सांप, आज भी हैं स्वस्थ

इस शख्स को 48 बार काट चुका हैं कोबरा सांप, आज भी हैं स्वस्थ

कोबरा सांप को सांपो की प्रजाति में से सबसे अधिक जहरीला माना जाता हैं। ऐसा कहा जाता हैं कि कोबरा सांप यदि किसी को काट ले तो उस व्यक्ति का बच पाना बहुत मुश्किल होता हैं। आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहें हैं जिसे कोबरा अब तक 48 बार काट चुका हैं लेकिन फिर भी यह शख्स जीवित हैं और पूरी तरह से स्वस्थ हैं। इस व्यक्ति का नाम छंगू लम्बरदार हैं जोकि यह उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में पड़ते पनगरा गांव का निवासी हैं। इनके साथ घटी घटना आपको हैंरान कर देगी। दरअसल इनका कहना हैं कि जब भी वह रात को सांप के काटने का सपना देखते हैं तो अगले ही दिन असल में इनको सांप काट लेता हैं।

यह हैं असल रहस्य

इस बारे में छंगू लम्बरदार का कहना हैं कि “वह जब 25 वर्ष के थे तब से उन्हें ऐसे सपने आते हैं कि एक कोबरा सांप उन्हें आकर काटता हैं। बस जब भी वह यह सपना देखते थे उसके अगले ही दिन सच में कोबरा कहीं न कहीं से आकर उन्हें काट जाता था। अब तक ऐसा 48 बार हो चुका हैं।” छंगू लम्बरदार कई बार अपने घर में सपेरों को बुलवा चुके हैं और इस दौरान कई सांपो को भी पकड़वा चुके हैं लेकिन हर बार सपना देखने के अगले ही दिन सांप किसी तरह उन तक पहुंच जाते हैं।

आपको बता दें कि अब तक सिर्फ एक ही ओझा छंगू को बचाते आ रहें हैं। जब भी उन्हें सांप काटता हैं तो वह सीधे इन्हीं ओझा के पास आते हैं। इनके पास पहुंचते ही वह बेहोश हो जाते हैं।

छंगू लम्बरदार के भाई शफीका इस बारे में अलग ही विचार रखते हैं। उनका कहना हैं कि उनके पिता जी को जमीन से कुछ गड़ा धन मिला था। छंगू उसको खर्च करना चाहता था पर उस स्थान पर बैठे सांप ने ऐसा करने से मना कर दिया। इसके बावजूद छंगू ने वह धन खर्च कर दिया। तभी से वह सांप इसके सपने में आता हैं और अगले दिन वास्तव में उसको काट लेता हैं। अब वास्तविकता क्या हैं इस बात को बता पाना हमारे लिए भी सम्भव नहीं हैं पर एक बात हैंरान करने वाली जरूर हैं कि यह शख्स 48 बार सर्पदंश का शिकार होने के बावजूद स्वस्थ हैं।

Check Also

इस दिवाली रात 10 के बाद आप नहीं कर सकेंगे आतिशबाजी… प्रशासन ने की अपील..

अम्बिकापुर जिला प्रशासन ने आज उच्च विश्राम गृह में पत्रकार वार्ता आयोजित कर दीपावली पर्व …

Leave a Reply