Friday , October 20 2017
Home / breakings / करोडों किमती रतनोे से हुआ माता का श्रंगार…पंडालो में लगे है 50 से 2000 के नोट…

करोडों किमती रतनोे से हुआ माता का श्रंगार…पंडालो में लगे है 50 से 2000 के नोट…

नैला में विराजी नौ रत्नों से सुसज्जित माता की भव्य प्रतिमा

जांजगीर-चांपा (संजय यादव) श्री श्री दुर्गा पूजा उत्सव सेवा समिति नैला का दुर्गा पंडाल लाखों के करेंसी नोटों से सजा रहा है। पंडाल की सजावट में एक रुपए से लेकर दो हजार रुपए तक के नोटों का उपयोग किया जा रहा है। नागपुर से पहुंचे कारीगर पिछले कई दिनों से दिन-रात कड़ी मेहनत कर पंडाल को आकर्षक स्वरूप प्रदान कर रहे हैं। इस भव्य पंडाल में सोने-चांदी, हीरे-मोती सहित विभिन्न रत्नों जडि़त माता की आकर्षक प्रतिमा  25 सितम्बर को विधि-विधानपूर्वक पूजा-अर्चना कर स्थापित की गई, सांस्कृतिक नगरी नैला की देशभर में दुर्गोत्सव को लेकर खास पहचान बन चुकी है। यहां का दुर्गोत्सव छत्तीसगढ़ ही नहीं, बल्कि पूरे भारत की शान है। यही वजह है कि यहां स्थापित माता की प्रतिमा का दर्शन करने के लिए हर वर्ष देश के विभिन्न राज्यों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। करीब एक दशक से चली आ रही परंपरा को कायम रखते हुए श्री श्री दुर्गा पूजा उत्सव सेवा समिति द्वारा इस वर्ष भी माता की आकर्षक एवं भव्य प्रतिमा स्थापित की जा रही है। इस बार यहां हीरा, मोती, सोना-चांदी और 2000, 500, 200 एवं 50 रुपए के नए नोटों से सुसज्जित माता की प्रतिमा 25 सितम्बर को स्थापित हैेेे जिसके लिए पिछले कई दिनों से पंडाल को आकर्षक स्वरूप प्रदान किया जा रहा है। नागपुर से पहुंचे कारीगर एक रुपए से लेकर दो हजार के करेंसी नोटों से पंडाल सजाये हैं। कारीगरों द्वारा करेंसी नोटों से प्रवेश द्वार को सजाया गया है। वहीं पंडाल के अंदर नोटों से ही विभिन्न प्रकार के फूल और अन्य तरह की सजावट की गई है। श्री श्री दुर्गा पूजा उत्सव सेवा समिति नैला के पदाधिकारी ने बताया कि पंडाल की सजावट के लिए एक रुपए से लेकर दो हजार तक के करेंसी नोट मंगवाए गए हैं जिसकी आाज शुभ मुहूर्त में विधि-विधानपूर्वक पूजा-अर्चना के बाद विभिन्न रत्नों जडि़त माता की प्रतिमा स्थापित की गई। जिसके दर्शन का लाभ श्रद्धालुजन विजयदशमीं पर्व के एक दिन बाद तक उठा सकेंगे। आयोजकों ने बताया कि दुर्गोत्सव में पंडाल की लाइटिंग भी आकर्षक होगी। मुंबई की प्रसिद्ध स्टेट लाइटिंग को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। इसके साथ ही कोलकाता के प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा पंडाल की फूलों से भव्य सजावट की जा रही है। वहीं बिलासपुर के टेंट व्यापारी द्वारा भव्य डोम पंडाल सजाया जा रहा है। सुरक्षा के लिहाज से पूरे पंडाल को सीसी कैमरे से लैस किया जा रहा है। दुर्गोत्सव के दौरान पुलिस के जवान यहां चैबीसों घंटे तैनात रहेंगे।

100 फिट का राजस्थानी घाघरा तैयार
सोने-चांदी, हीरे-मोती समेत विभिन्न रत्नों से जडि़त मां दुर्गा की प्रतिमा का 100 फिट के राजस्थानी घाघरा से अलौकिक श्रृंगार किया गया हैै। आयोजन समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि माता के श्रृंगार के लिए राजस्थानी घाघरा से किया गया है। जो देखने मेें अकार्षक लग रहा है।

Check Also

इस दिवाली रात 10 के बाद आप नहीं कर सकेंगे आतिशबाजी… प्रशासन ने की अपील..

अम्बिकापुर जिला प्रशासन ने आज उच्च विश्राम गृह में पत्रकार वार्ता आयोजित कर दीपावली पर्व …

Leave a Reply