मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मिलेगी MRI व EEG की सुविधा

396

आउट सोर्सिंग से लेंगे मदद, रसीद कटेगी शासकीय रेट पर  

अम्बिकापुर

“दीपक सराठे”

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आये दिन मशीनों में तकनीकी रूकावट व अन्य मानव संसाधन की अनुपलब्धता जैसी परिस्थतियों से निपटने के लिये अहम फैसला लिया गया है। कलेक्टर सरगुजा के निर्देश पर मेडिकल कॉलेज अधीक्षक ने एक आदेश जारी किया है, जिससे अब मशीनों में तकनीकी रूकावट की वजह से मरीजों को परेशान नहीं होना पड़ेगा। यहीं नहीं अस्पताल में आने वाले मरीजों को एमआरआई, ईईजी व मेमोग्राफी जैसी जांच शासकीय दर पर उपलब्ध हो पायेगी। इसके लिये अधीक्षक के आदेश पर अस्पताल से लगे बीएसआर डाग्यनोस्टिक सेंटर व तेज डाग्यनोस्टिक सेंटर की मदद ली जायेगी।

गौरतलब है कि मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आये दिन मशीनों में खराबी आ जाने के कारण मरीजों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। खासतौर पर सीटी स्केन मशीन में अकसर खराबी आ जाने की शिकायत सामने आते रहती है। इसके साथ ही गंभीर मरीजों को एमआरआई व अन्य बड़ी जांच महंगे दरों पर बाहर से करवाने पड़ती है। इन सब समस्याओं को लेकर गत तीन फरवरी को जीवन दीप समिति की बैठक में कलेक्टर सरगुजा भीम सिंह ने जनहित को ध्यान में रखते हुये निर्देश दिया था कि इस समस्या को दूर करने आउट सोर्सिंग की सेवाएं एक सहमति पत्र के आधार पर ली जाये। इस आधार पर महाविद्यालय के अधीक्षक श्री कुजूर ने दो संस्थानों से सहमति पत्र पर यह सेवाएं प्रारंभ करने के आदेश दे दिये हैं। अब यह सब बड़ी जांच शासकीय दर पर मरीजों को मुकम्मल हो सकेगी।

शिकायत पर अनुबंध हो सकता है निरस्त-

अस्पताल के हितग्राहियों को जो स्वयं चलकर आने-जाने में असमर्थ होंगे, उन्हें चिकित्सालय स्टाफ द्वारा अथवा मरीजों के परिजनों द्वारा सूचना दिये जाने पर 30 मिनट के अंदर यथा संभव डाग्यनोस्टिक सेंटर तक ले जाने व वापस अस्पताल पहुंचाने हेतु एम्बुलेंस की सुविधा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके साथ ही अगर इन दोनों संस्थानों के निरीक्षण के दौरान किसी प्रकार के शिकायत व अनियतिता पाई गई तो उन संस्थानों के अनुबंध आउट सोर्सिंग को विलोपित करने का निर्णय गठित समिति की सहमति से अस्पताल अधीक्षक द्वारा लिया जा सकेगा।

यह रहेगी शासकीय दर-

विभिन्न प्रकार के सिटी स्कैन के लिये शासकीय दर 1600 से लेकर 2800 रूपये तक के बीच रहेगी। वहीं ईईजी 700 रूपये मेमोग्राफी 600 रूपये व विभिन्न प्रकार की एमआरआई के लिये 3500 रूपये से लेकर 6900 रूपये मरीजों को देय होंगे।