महिला भाजपा नेता पर जानलेवा हमला, फसल काटने के विवाद में हुआ हमला

187

 

बैकुंठपर सोनू केदार 

खडग़वां. ग्राम पंचायत सलका में बुधवार को फसल काटने से मना करने पर महिला उपसरपंच व उनके देवर पर टांगी, हसिया और डंडे से जानलेवा हमला कर घायल कर दिया। गंभीर रूप से घायल देवर-भाभी को जिला अस्पताल भर्ती किया गया है। घायल महिला भाजपा महिला मोर्चा की मंडल अध्यक्ष भी हैं। खडग़वां पुलिस ने हमला करने वाले 8 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक खडग़वां थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत सलका निवासी राजेंद्र चौबे पिता बिंधा प्रसाद (40) और महिला उप सरपंच ममता चौबे पति गजेंद्र कुमार(40) को उनके खेत की जबरन फसल काटने की जानकारी मिली। इस पर उप सरपंच अपने देवर समेत अन्य ग्रामीणों को लेकर सुबह करीब 9-10 बजे खेत पहुंची और फसल काटने से मना किया।

इस दौरान विरोधी पक्ष के 8-10 लोग टांगी, हसिया व डंडे से जानलेवा हमला कर दिया। विरोधियों ने सबसे पहले उप सरपंच के देवर राजेंद्र पर प्राण घातक हमला किया। हमले में गंभीर रूप से घायल राजेंद्र को घटना स्थल से जैसे-तैसे लेकर भाग निकले। इस दौरान विरोधी पक्ष की महिलाओं ने उप सरपंच ममता को पकड़ लिया और हसिया से प्राणघातक हमला कर दिया।

इसमें उप सरपंच के गले, हाथ में चोटें आई हैं। वहीं देवर राजेंद्र व मजदूर सोना सिंह को भी चोटें आई है। घायलों को तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खडग़वां में भर्ती कराया गया। अस्पताल के डॉक्टर्स ने उपचार कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

जिला अस्पताल में घायल उप सरपंच-देवर का उपचार चल रहा है। घटना की रिपोर्ट पर खडग़वां पुलिस ने 8 आरोपियों रामविचार केवट, दासमती, बिहारी केवट, मानमती, हरी केवट, गोविंद सिंह, अजय सिंह को गिरफ्तार कर लिया है।

भाजपा मंडल अध्यक्ष हैं घायल महिला
ग्रामीणों का कहना है कि घायल महिला ग्राम सलका की उपसरपंच है और भाजपा महिला मोर्चा की मंडल अध्यक्ष के पद पर कार्यरत हैं। एक ग्रामीण से विवादित जमीन को उप सरपंच के परिवार ने खरीदा है और उस जमीन के कुछ हिस्से पर पहले से ही विरोधी पक्ष ने मकान बनाकर कब्जा किया है। उक्त जमीन पर उप सरपंच के परिवार ने धान की फसल लगाई है।

घटना तिथि को विरोधी पक्ष के लोग 8-10 मजदूर लगाकर फसल कटवा रहे थे। इस दौरान उप-सरपंच व उनके देवर मजदूर लेकर फसल काटने से रोकने पहुंचे और विरोधी पक्ष ने हमला कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि उप सरपंच व विरोधी पक्ष के परिवार के बीच विवाद पुराना है। दोनों पक्ष के पास क्रशर संचालित है। इसको लेकर एक दूसरे से आगे बढऩे की होड़ लगी रहती है।