दुर्ग में कुर्मी समाज के सम्मलेन में जोगी..कही भाजपा से विजय बघेल का छजका प्रवेश तो नहीं…

[highlight color=”black”]दुर्ग[/highlight] [highlight color=”red”]”हितेष शर्मा’‘[/highlight]

छत्तीसगढ़ में जोगी की पार्टी बनने के बाद सियासी हलको में मची खलबली के बीच दुर्ग में आयोजित कुर्मी सामाज के सम्मलेन में अजीत जोगी का सरीक होना और समाज के बैनर में जोगी की फोटो के साथ छ.ग.जनता कांग्रेस “जोगी”की पार्टी का निशान बना होना अब रमन सरकार में विधायक व संसदीय सचिव रह चुके विजय बघेल का जोगी की पार्टी में जाने का संकेत दे रहा है, वही इस मंच पर जोगी और विजय बघेल एक साथ नजर आये लिहाजा कयास तो यही लगाए जा रहे है की कुर्मी समाज के प्रदेश अध्यक्ष पूरे कुर्मी मतदाताओं के साथ अब भाजपा का दामन छोड़ सकते है और जोगी की ताकत को और बढ़ा सकते है, बहरहाल जोगी की पार्टी के बढ़ते ग्राफ से छत्तीसगढ़ की राजनीति पूरे शबाब पर है, चुनावी पर्व सा माहौल भाजपा और कांग्रेस ने निर्मित कर दिया है, वही पूरे प्रदेश में जोगी के संगठन का विस्तार जिस तरह से हुआ और इन पदाधिकारियों को जिम्मेदारिया मिलते ही अपने लक्ष्य पर निकल पड़े है, वो वाकई आगामी विधान सभा चुनाव में छ्जका की मजबूत स्थिति का पर्याय बन सकती है…

वही अजीत जोगी ने मंच से यह दावा भी किया है की सिर्फ दुर्ग जिले में छ्जका के 25 हजार कार्यकर्ता है..अगर वाकई ये सच है तो भाजपा और कांग्रेस के लिए बड़ी चिंता का विषय है क्योकी दुर्ग जिले में दोनों बड़े दलों के राष्ट्रीय नेतृत्व जैसे मोतीलाल वोरा,सरोज पाण्डेय,पी सी सी अध्यक्ष भूपेश बघेल व  इसके साथ ही रमन सरकार के मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय के गृह जिले में अगर नव गठित पार्टी के 25 हजार कार्यकर्ता है तो यह वाकई अगले विधानसभा चुनाव के परिणामो को दर्शाता है….

[highlight color=”blue”]दिल्ली के भरोसे प्रदेश नही चलेगा [/highlight]

छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के अध्यक्ष अजीत जोगी ने कहा है कि जब तक छत्तीसगढ़ की सरकार दिल्ली से पूछकर फैसले करेगी, तब तक किसानों को अनाज का बेहतर मूल्य नहीं मिलेगा। बेरोजगारों को रोजगार नहीं मिलेगा। छत्तीसगढिय़ों को उनका हक दिलाने के लिए दिल्ली की बजाय यहीं पर फैसला लेने वाली सरकार बनाना होगा। राष्ट्रीय दलों की सरकार बनने पर किसानों, बेरोजगारों सहित किसी भी वर्ग को उनका अधिकार नहीं मिल पाएगा।राष्ट्रीय दलों की नीतियों पर प्रहार करते हुए

[highlight color=”blue”]बेरोजगारी पर जमकर बरसे जोगी [/highlight]

मानस भवन में छत्तीसगढ़ राज्य के प्रथम स्वप्न दृष्टा खूबचंद बघेल जयंती समारोह में जनता कांग्रेस के अध्यक्ष अजीत जोगी ने कांग्रेस-भाजपा जैसे राष्ट्रीय दलों की नीतियों पर जमकर प्रहार किया। बेरोजगारी का जिक्र करते हुए जोगी ने कहा कि बीएसपी में वेकेंसी निकलती है तो इंटरव्यू नागपुर में होता है। दूसरे राज्य के लोगों को रोजगार मिल रहा है। अब ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। प्रदेश के युवाओं के दिल में आग लग गई आउटसोर्सिंग के कारण योगेश साहू जैसे बेरोजगार युवा को सीएम हाउस के सामने आग लगाना पड़ा। योगेश ने बदन में आग लगाई लेकिन अब पूरे प्रदेश के युवाओं के दिल में आग लग गई है। उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि अब सरकार प्रदेश में वेकेंसी होने पर दूसरे राज्यों के लोगों को नौकरी देकर दिखाए।जनता कांग्रेस के नेतृत्व में सभी युवा जबर्दस्त विरोध करेंगे। 36 समाजों को एकजुट होने का आव्हान किया

[highlight color=”blue”]शौचालय से बाँध तक एक परिवार का नामकरण [/highlight]

छत्तीसगढ़ में शुक्ल परिवार का लंबे समय तक दबदबा रहने के बावजूद यहां के लोगों को उनका हक न मिलने पर जोगी ने नाम लिए बिना इशारों में कई बार तीखे प्रहार किए। जोगी ने कहा कि 1936 में सीएम कौन बना। तब से सन 2000 तक छत्तीसगढ़ में किसका वर्चस्व रहा। इसी वर्चस्व को तोडऩे खूबचंद बघेल ने पार्टी छोड़ दी। छत्तीसगढ़ के 36 समाजों को एकजुट होने का आव्हान किया।
जोगी ने कहा कि इसी परिवार से केंद्रीय मंत्री होने के बावजूद खूबचंद बघेल का मृत शरीर प्लेन से लाने की बजाय मालगाड़ी से लाया गया। शौचालय से लेकर बांध, विश्वविद्यालय तक हरेक का नामकरण इसी परिवार के नाम पर हुआ। शहीद वीरनारायण सिंह, खूबचंद बघेल और शहीद गेंदसिंह के नाम उन्हें याद ही नहीं आए
हीरा और सोना की खदानों के अलावा कोयले का अथाह भंडार होने के बावजूद यहां के गरीब अमीर नहीं हो पाए। बॉक्साइट, एलूमिनियम, लोहा सहित अन्य खनिज और वन संपदा के बावजूद यहां के आदिवासियों, किसानों की हालत नहीं सुधरी। अमीर धरती के गरीब लोगों का विरोधाभास दूर करना है तो 90 की 90 सीटों पर जोर मारना होगा। दिल्ली की तरह यहां भी हवा बनाना है।

[highlight color=”blue”]सत्ता इस बार बदल जाएगी [/highlight]

सीएम बना तो दो माह के अंदर यहां का बजट 75 हजार करोड़ से बढ़कर एक लाख करोड़ कर दूंगा। किसानों को 24 सौ रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान का भुगतान होगा। हीरा-सोना की खदानों से कोई फायदा नहीं मिल रहा।कोयला खदानों का आधा कोयला रिकॉर्ड में रखा जाता है। यहां का आधा कोयला बिना रजिस्टर में चढ़े यहां से दूसरे स्थानों पर जा रहा है। अगले चुनाव में सत्ता बदल जाएगी
स्व. खूबचंद बघेल ने यहां के लोगों के मान सम्मान और उनका हक दिलाने के लिए पार्टी छोड़ दी थी। बाद में छत्तीसगढिय़ों के मान सम्मान के लिए ताराचंद साहू ने भाजपा छोड़ी। अब इसी कारण मैंने भी अपनी पार्टी छोड़ दी है। पहले हालात कुछ और थे। अब छत्तीसगढिय़ों में सत्ता बदलने की ललक बढ़ चुकी है। अगले चुनाव में सत्ता बदल जाएगा

[highlight color=”blue”]पैरो से लाचार पर 16 घंटे काम [/highlight]

दोनों पैर टूट गए हैं। व्हील चेयर पर चलता हूं। पैसा है।साधन हैं।मेरे पास सब कुछ है। बेटा और पत्नी एमएलए बन गए हैं। चाहूं तो आराम से जिंदगी गुजार सकता हूं। फिर भी 16 घंटे की मेहनत कर रहा हूं। किसके लिए। छत्तीसगढ़ के लोगों को उनका अधिकार दिलाने के लिए मैं इतनी मेहनत कर रहा हूं। नई पार्टी भी इसीलिए बनाई।

[highlight color=”blue”]जोगी तुम संघर्ष करो नही जोगी तुम राज करो अब होगा नारा [/highlight]

जोगी तुम संघर्ष करो का नारा लगाने पर कहा कि यह नारा बदलना होगा। छत्तीसगढिय़ों को उनका हक दिलाने जोगी तुम राज करो का नारा लगाना होगा। इससे पहले बेरोजगारी के मुद्दे पर यही नारा लगने पर जोगी ने कहा कि मैंने कई दशक संघर्ष किया। पेज पसिया खाकर बचपन बीता। बहुत संघर्ष किया।
अब युवकों को संघर्ष करना होगा। जोगी ने बेरोजगारी के मुद्दे पर भाषण के दौरान ताली बजाने पर भड़कते हुए कहा कि ताली मत बजाओ। यहां वेकेंसी निकलने पर दूसरे राज्य के लोगों को रोजगार मिल रही है। यहां के नौजवान ताली पीट रहे हैं। यहां आकर बसने वाले लोगों को रोजगार मिलना चाहिए लेकिन यहां के लोगों का हक नहीं छीना जाना चाहिए

[highlight color=”orange”] इसे भी पढ़िए पत्रकारों की वसूली का अंदाज  :[/highlight]

http://fatafatnews.com/no-news-to-show-the-businessman-sought-bribes-from-journalists/