प्रदेश की नई खनन नीति पर जमकर बरसे पूर्व मंत्री गणेश राम

308

जनजातीय सुरक्षा मंच की रैली सम्पन्न

जशपुर- बगीचा

बगीचा में जनजातीय सुरक्षा मंच द्वारा रैली का आयोजन कर अपनी विभिन्न मांगों पर शासन का ध्यान आकर्षित कराया। रैली नगर के मुख्य मार्गों से होते हुये बस स्टैण्ड होते हुये बाजारडांड़ पहुंची। इस अवसर पर आयोजित सभा को विभिन्न वक्ताओं ने संबोधित करते हुये प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन से अपनी मांगों को पूर्ण करने की मांग की।

मंगलवार को बगीचा विकासखण्ड मुख्यालय में जनजातीय मंच के बैनर तले वनवासियों की रैली झमाझम बारिश के बीच बगीचा के हाईस्कूल मैदान से नगर के मुख्य मार्ग से होते हुए बस स्टैण्ड मार्ग से बाजारडांड़ मेें जाकर सभा में तब्दील हो गई। सभा को संबोधित करते हुए अधिवक्ता रामप्रकाश पंाडेय ने कहा कि सरकार जशपुर को बर्बाद करना चाहती है, सरकार बाक्साइड खनन के लिये उद्योगपतियों को जमीन देने की तैयारी में है, जिसके लिये 21 और 22 जून को रायपुर में अधिकारियों को प्रशिक्षण भी दिया गया। वनवासी समाज धरती को पूजता है और उसे हम किसी भी कीमत में उद्योगों के हवाले नहीं होने देंगे। पांडेय ने कहा कि वनवासी समाज के साथ छल किया जा रहा है। यदि कोई भी यहां खनन के लिये आता है तो हम सब उनका मिलकर मुकाबला करेंगे। आज हम सब यहां से उद्योगों से जशपुर को मुक्त बनाये रखने का संकल्प लेकर जाएं ।
सभा को संबोधित करते हुये पूर्व मंत्री गणेशराम भगत ने कहा कि आदिवासियों की जाति प्रमाण पत्र बनाने में भारी लापरवाही हो रही है। जाति प्रमाण पत्र बनाने में हो रही लापरवाहियों के कारण आम जरूरत मंद महीनों से जाति प्रमाण पत्र बनवाने भटक रहे हैं। जितने भी आवेदन जाति प्रमाण पत्र के लिये आये हैं और इन्हें एक हफ्ते के अंदर नहीं बनाये जाते हैं तो एसडीएम कार्यालय के सामने हम सब धरने पर बैठेंगे। इसके साथ ही मिसल बंदोबस्त और नक्शा खसरा बनाने में भी लापरवाही हो रही है। लोग कई महीनों से मिसल बंदोबस्त के लिये भटक रहे हैं। इन सब में जल्द सुधार किया जाए, अन्यथा बड़ा आंदोलन किया जाएगा। पाठ क्षेत्र के ग्रामीणों को संबोधित करते हुए पूर्व आजाक मंत्री श्री भगत ने कहा कि जिले में बाक्साइड खदान शुरू करने के लिये तैयारी शुरू हो चुकी है। हम जिले में किसी भी हालत में खदान शुरू होने नहीं देेंगे। जिले की स्वच्छ पर्यावरण को खराब करने की कोशिशें की जा रही है। हम खदान तो क्या इस भूमि के एक मिट्टी का ढेला भी उठाने नहीं देंगे। इस दौरान कल्याण आश्रम के जगदेव राम उरावं सहित जिले के विभिन्न क्षेत्रों से सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।