वर्दी वाले फिर भूले मानवता..नाबालिग से बरती शख्ती…

275

कोतवाली में नाबालिग से पुलिस ने की कड़ी पूछताछ

मोबाईल चोरी करते पकड़ाया था 12 वर्षीय बालक

अम्बिकापुर

नगर के बाजारों में लगातार मोबाईल चोरी की बढ़ रही घटनाओं के मद्देनजर आज एक 12 वर्षीय बालक को लोगों ने मोबाईल चोरी करते रंगे हाथों पकड़ पुलिस के हवाले कर दिया। कोतवाली पुलिस ने वर्दी में होते हुये उक्त बालक से आखिर किस प्रकार से कड़ी पूछताछ की, यह उस बालक के सिसकियों से साफ पता चला रहा था। बालक के आंसू नहीं थम रहे थे। बालक ने जब जिंस सरकाकर अपनी जांघ मिडिया को दिखाई तो जांघ में मारपीट के दाग साफ दिख रहे थे। आखिर यह मारपीट बालक के साथ किसने की। उसे पकडऩे वाले लोगों ने या फिर पुलिस ने। यह एक सवाल जरूर है पर हकिकत भी किसी से छिपी नहीं। नियम तो यह है कि किसी नाबालिग से वर्दी में पुलिस पूछताछ नहीं कर सकती। पर यहां तो वर्दी के साथ-साथ नाबालिग से कड़ाई से पूछताछ का सवाल है।

पुलिस के अनुसार पकड़ा गया बालक शातिर है। पुलिसिया पूछताछ में पता चला है कि बालक झारखंड क्षेत्र का रहने वाला है और वह अकेले ही ट्रेन से अम्बिकापुर आया हुआ था। गत दिन रविवार को गुदरी बाजार में सब्जी लेने आये तकिया निवासी मोहम्मद नियाजूल होदा व कांतिप्रकाशपुर निवासी राजू की मोबाईल को सब्जी लेने के दौरान पार कर दिया। जिसकी भनक लगने पर दोनों बालक का पीछा करते हुये उसे कंपनी बाजार से पकड़ पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस ने पूरी रात बालक से पूछताछ की। यह सिलसिला दूसरे दिन सोमवार को भी चलता रहा। एक कमरे में पुलिस बालक से कड़ाई से पूछताछ करते दिखी। पुलिस का कहना था कि यह अकेला नहीं बल्कि इसके साथ कई अन्य लोग भी शामिल है और पूछताछ में यह पूरी जानकारी झूठी बता रहा है। पुलिस ने यह भी बताया कि नगर से पांच लोगों की मोबाईल चोरी हो चुकी है। जिसमें सुरेन्द्र कुमार पिता स्व. रामसुन्दर, संजीव कुमार पिता रमाशंकर, चंद्रिका दुबे पिता विनोद दुबे, अब्दूल कादरी की मोबाईल चोरी हुई है। पकड़े गये उक्त बालक के बारे में पुलिस का शातिर कहना अगर ठीक भी है तो पूछताछ का यह तरीका कितना सही है इसका जवाब तो पुलिस के आला अधिकारी दें सकते है। हालांकि जहां तक नाबालिग के साथ पुलिस के रवैये को लेकर नियम कानून बनाये गये है, उससे तो कोतवाली में उक्त बालक की सिसकियां कई सवालों को खड़े कर रही थी।

सीडब्ल्यूसी करेगी मामले की जांच-एसपी
बालक से वर्दी पहनकर व कड़ाई से पूछताछ करने के मामले में सरगुजा पुलिस अधीक्षक राधेश्याम नायक ने कहा है कि मामले को लेकर सीडब्ल्यूसी द्वारा जांच की जायेगी। जांच सही पाये जाने पर कार्यवाही करने की बात कही गई।